मौत का महीना अगस्त खत्म लेकिन बच्चों के मौत का सिलसिला जारी, फर्रुखाबाद में 49 बच्चों की मृत्यु


उत्तरप्रदेश में सरकारी अस्पतालों में बच्चों की मौत का सिलसिला थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। एक तरफ जहां गोरखपुर के बीआरडी कॉलेज में बच्चों की मौत का आंकड़ा बढ़ता ही जा रहा है वहीं अब फर्रुखाबाद के राममनोहर लोहिया अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से 49 बच्चों की मौत का मामला सामने आया है । हालांकि अस्पताल प्रशासन लगातार ऑक्सीजन या दवा की कमी की बात से इंकार कर रहा है लेकिन जिला प्रशासन ने मामले के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है।

ऑक्सीजन की कमी से हुई बच्चों की मौत

View image on Twitter

लोहिया संयुक्त चिकित्सालय में 23 मई से 14 अगस्त व पूर्व में निरीक्षण के दौरान एसएनसीयू वार्ड में मरने वाले बच्चों की सूचना मांगी गयी थी लेकिन इन अधिकारियों ने नहीं दी।इसके बाद 30 अगस्त को जिलाधिकारी ने एक माह में हुई 49 बच्चों की मौत की जांच के लिए मुख्य चिकित्सा अधिकारी व मुख्य चिकित्सा अधीक्षक की अध्यक्षता में टीम गठित की। इसके बाद भी दोनों अधिकारियों ने आदेश का अनुपालन नहीं किया, उन्होंने मरने वाले मात्र 30 बच्चों की सूची संलग्न की और बताया कि अधिकांश बच्चों की मौत पेरीनेटल एस्फिक्सिया (आक्सीजन की कमी) से हुई है।

सिटी मजिस्ट्रेट ने एफआईआर में यह भी कहा है कि जांच अधिकारी को मृत बच्चों की मां व परिजनों से बात की तो इन लोगों ने बताया कि डाक्टर ने आक्सीजन की नली नहीं लगाई (आक्सीजन नहींदी) और कोई दवा नहीं दी। इससे स्पष्ट है कि अधिकतर शिशुओं की मृत्यु पर्याप्त मात्रा में आक्सीजन न मिलने के कारण हुई। उन्होंने यह भी कहा है कि डॉक्टरों को यह ज्ञान होना चाहिए कि आक्सीजन की पर्याप्त आपूर्ति न होने पर बच्चों की मौत हो सकी है, यहां भी लापरवाही बरती गयी है। पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

गौरतलब है कि गोरखपुर के लिए अगस्त का महीना दर्दनाक रहा.. अगस्त में अकेले गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में 450 से ज्यादा बच्चों ने दम तोड़ दिया। प्रशासन का कहना है कि बारिश में बच्चे ज्यादा बीमार होते हैं और जब उनकी हालत ज्यादा खराब होती है तब वे अस्पताल आते हैंऐसे में उन्हें बचाना मुश्किल हो जाता है।


Comments 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *

log in

Captcha!

reset password

Back to
log in
Choose A Format
Gif
GIF format